भीमळ की लेतँण और सांदण की परोठी

Parothi
Parothi

क्या आपतें पता छन की गौं मा मट्ठा के पर छोल्दा, दही कै भांडा पर जमाये जांदी? मट्ठा छोळांण वाला बर्तन कैं बोल्दा परेड़ू और दही जमौंण कैं प्रयोग होंदी परोठी।अब तक आपतें पता चलीगी होलु कि आज हम बात कौला परेड़ू और परोठी की काष्ठकला और वांकु हमारा घर बार मा प्रयोग। एक सामान्य परेड़ू लगभग २०-५० लीटर तक कु होन्दु, बाकि कुछ ये सि बड़ा और कुछ छोटा भी होंदा।येका विपरीत परोठी लगभग ३-५ लीटर की होंदी और साइज मा भी कॉम्पैक्ट।

For reading in english: Wooden utensil in himalayans

मैंन त कभी देखि नी पर बड़ा बुजुर्ग बताउँदा कि ये बर्तन बाणोंणक तें चुनेर ब्यवसायिक लोग गौं गौं मा खराद लगौंदा थाई, और वीं जगह पर जतका लोगों तें यु बर्तन छेन्दु लगभग तत्कि बनैक फिर हैका गौं मा खराद लगौंदा थाई।बात जब खराद कि आयी त आपलोगों तें बतौण चांदू कि खराद पानी सी चलण वाली एक टरबाइन टाइप होंदी, जना की आटाचक्की कि टरबाइन, पाणी की धार पर टरबाइन घुमदी और वैका सहारा सी खराद, घूमती खराद फर फिर छेनी और नुकीला सब्बल सी लकड़ी तें खोखला करीक परेड़ू बनाये जांदू।कखि न कखि ये मा पाणी सि चलाये जाण वाली टरबाइन विज्ञानं कु प्रयोग होन्दु।एक बार जब लकड़ी खोखली ह्वे जांदी त वेका बाद काष्ठकार ये पर विभिन्न कलाकृति करदा और  येतें और भी सुन्दर बणाऊंदा।एक बड़ा बर्तन बनाऊंण मा लगभग ३-५ घंटा कु समय लगी जांदू।

ये बर्तन पर दही जमाये जांदी और मट्ठा छोले जांदी, जै वजह सी यु सांदण नाम की लकड़ी सी बणाये जांदू। सांदण की  लकड़ी न त जल्दी फटदी(दरार वगैरह) और ना जल्दी सड़दी।एक बार मट्टा छोलेगी, त परेड़ू तें उल्टु करे जांदू ताकि पाणी सुखी जाऊ, और परेड़ू ख़राब भी न हो। मट्टा छोळांण क तें तीन चीज प्रमुख होंदी
१- लेतण – रौड़ी तें घुमाऊंण मा मदद करदी।
२- रौड़ी – दही छोलदी मट्टा बनौण का खातिर।
३- विडियो देखा और मैं तें भी बतावा – रौड़ी अटकौंण कैं प्रयोग होंदी , ताकि पूरी ताकत सी बिना रौड़ी का संतुलन ख़राब करीक मट्ठा छोले जाऊ।

परोठी कु प्रयोग दही जमौंण का साथ साथ वाद्य यंत्र कांस की थकुली का निस भी रखे जांदू, ताकि खोखला होणा का वजह सि आवाज अच्छी ऐ जांदी। पहली का लोग ब्यो बारात मा सबसी छोटी साइज मा दही की कमोळी लेकें जांदा थाई , पर आज वोकुं स्थान स्टील का ठेकी न लेली।स्टील शरीर तें इतना बढ़िया नि, किले कि ये मा रख्यां खाद्य पदार्थ  का प्रोटीन एवं विटामिन कु संरक्षण काम रांदू जबकि लकड़ी का बर्तन मा काफी हद तक ६० ~ ९० % तक  संरक्षित रांदा और क्वी साइड इफ़ेक्ट भी नी। येका अलावा भी काफी प्रयोग छन, जु समय समय पर बदलेंदी रांदा।

नोट: आज भी उत्तराखण्ड का हर गौं गळा मा घ्यू , दूध और दही मखन संपन्नता का प्रतीक छन। व्यावसायिक रूप लेना का खातिर लोग अब दूध तें ज्यादा महत्व देंदा।

डेक्लाइमर: यिं  पोस्ट की सारी फोटो और विडियो खुदेड़ प्रवासी न क्लिक नई कारी। हमन यी फेसबुक बिटि डाउनलोड कारी। अगर कैन यी पर्सनल क्लिक कारी वु  हमतें वैकि असली कॉपी देखैक क्रेडिट का वास्ता संपर्क करि सकदा।

For reading in english: Wooden utensil in himalayans

आज ये बर्तन की मांग कम होना का कारण,खराद त कखि दिखेन्दि नी,और यिं काष्ठकला मा माहिर चुनेर लोगोंन भी अपड़ा रोजी रोटी का खातिर ब्यवसाय बदली गैना। कला पूर्ण विलुप्ति का कगार फर चली गैनी।जरूरत छन ऐना काष्ठ कलाकारों तें बढ़ावा देणं कु, बल कुछ नि त छोटी परोठी त हम ख़रीदी सकदा।मैं यें कला और वे सी जुड़यां सभी कास्तकारों तें सेवा सौंळि बोल्दु, और यु पोस्ट वोंकि कला तें प्रमोट का वास्ता समर्पित।

Wooden utensil in himalayans

Parothi
Parothi

Do you know that how to make butter from curd in Uttarakhand villages and which utensil used to keep curd for long time. “Paredu” is the utensil used for making butter from curd and “Parothi” is utensil for keeping curd long time.Today post is about two wooden utensil called “Paredu” and “Parothi”.

For reading in garhwali: भीमळ की लेतँण और सांदण की परोठी

A common Paredu can keep 20~50 liter curd while Parothi is very small with 5~10 liter capacity.I have never seen personally but my father said old time there were people called “Chuner” who make this utensil by visiting village to village.For making this utensil keep wood rotating with the help of water turbine and drill with scrape, center part of wood to make hollow round portion in the wood. Once wood is hollow completely in the center part the next work is to do micro work from outer side of the wood to enhance its outside looking. To make one big vessel it took 5~6 hours.

The use of of the vessel is to keep curd milk as well as make butter from curd.
There are 3 main instrument of this process.
1- Rodi – long stick dissolve into curd for churning butter milk.
2- Letan – Its a rope with some small stick to hold in the hand for rotating “Rodi”.
3- Please check photo and let me know this part name, basically this part give support for “Rodi” with wall for giving rotational stability.

Once finished with the process of making butter keep open end down and close end in the air to avoid moisture in the vessel. The other use of the vessel is to hold Brass plate for for making music in folk song with “Daunri and Thali”. The food in this vessel keep protein as it is in the food compare to steel with keeping these minerals only 20~30%, Somehow wood vessel is good for health without any side effect. Parothi and Paredu is made from the wood called “Geenthi” with biological name “Boehmeria Rugulosa” and locally known as “Sandan”.The wood of this tree absorb less water with due to that it avoid moisture and we can keep using it for long time.

For reading in garhwali: भीमळ की लेतँण और सांदण की परोठी

Declaimer: All photos and video in this post is not clicked by “Khuded Pravasi”, we did just editing. It is downloaded from various Facebook groups.If someone clicked it personally please show us original copy in order to receive name in credit part.

Due to demand of this vessel become less and less in the market, the traditional woodcraft maker known as “Chuner” has been change their profession for surviving in daily life. There are few people still left in Rudraprayag and Bageshwar district who are making vessel in winter. This art is sitting in the edge of dying. My message for people reading this post, I understand the way of life and lifestyle both changed but we need to think about preserving this art before complete die, you can not buy big utensil but you can think about to buy small one Parothi. This post is dedicated to all wooden artist who are surviving in their daily life and not getting proper fund or support from others.

आज का दौर की मिक्सी हमारु गों कु सिलौटु

Different Type Of Silbatta
Different Type Of Silbatta

आज कु पुरु पोस्ट होलु सिलौटा पर। अब हम दगडी त काफी लोगों तें पता भी निहोलु कि सिलौटा कि होंदु। चला मैं आपतें बतौन्दु हमारा दौर कु सिलौटु आज का दौर की मिक्सी, चक्की और इमामदस्ता सब एक ही प्रजाति का छन। जतका महत्व घर मा मिक्सी कु छन वतकी महत्व आयुर्वेद मा सिलौटा कु।हिंदी मा यु जु छा सिल बट्टा नौं सि जाणे जांदू।

Also Read:  घेंन्जा खावा स्वस्थ रावा और सर्दी भगावा

मैं बड़ी खुसी होंदी कि लोग यथैंइ तथैंइ बसिगि पर, अपड़ा गौं बीटी सिलौटु भी साथ लिकें गेई, जु लोग नि लेक गेई वों तें मै आज सिलौटा कु महत्व जरूर बतौलु।अब आप सोचण होला लग्यां कि ये कु प्रयोग उत्तराखंड मा ही होंदु पर ना, सिलौटा कु प्रयोग भारत मा राजस्थान, महाराष्ट्र एवं दक्षिण भारत और विश्व मा कौलाम्बिया, दक्षिण अमेरिका खासकर पेरू और बोलीविया की ओर आज भी जारी छन।

Read more wiki:  wikipedia link

सिलौटु चाहे कखि भी हो ये का द्वी भाग होंदा पहलु १-प्लेन पत्थर (सिल – सिलौटु ) २- बट्टा(सिलालौड – बेलण की छार लंन्बु). सिलौटा कु डलु हमेशा एक किनारा पर खड़ु करीक रखी रन्दु और वेका पैथर सिलालौड।जब भी लौंण चटनी पिसण कु मन करदु सिलौटा लटकाई द्य्यावा और पिसण स्टार्ट।हमारा यख सिलौटा कु महत्व और भी बढ़ी जांदू जब वैवाहिक कार्य की पहली हल्दी और एक दिन पहले पकौड़ा कैं दाल पिसण कु कार्य भी ये से शुरुवात होंदु।दाल पिसण सी पहलि टिका लगैक सिलौटा कु आमंत्रण स्वीकार करे जांदू। जु भी हो बल आमंत्रण भी के न हो गौं का ब्यो बारात की रसाण मा ये कु बहुत महत्व छ। वना त बहुत फायदा पर मैं कुछ आयुर्वेदिक और साइंटिफिक फायदा बतौलु।

Byo Barat Wedding
Byo Barat Wedding

आप सिलौटा सि खटाई मजीक अगर कालु  लूँण पिसदा त मिक्स कालु लूँणव स्वस्थ्य का खातिर बेहतर होंदु और पिसदि दूँ आपका कमर और हाथ की फ्री मा कसरत भी ह्वे जांदी। जब भी आप हल्का हल्का कुछ भी चीज पिसदा जनु मिर्च मसाला , त वैका भीतराकु तेल भी तत्कि धीरी धीरी रिसदु जुकी आपतें खाणा मा और स्वाद देन्दु, साथ मा पाचन का हिसाब सी भी जल्दी पाचनशील।सिलौटा हमेशा एक विशेष डला सी बणाये जांदू जैमा कुछ मात्रा का खनिज लवण आटोमेटिक आपतें समय समय पैर आपतें लाभ पहूंचांदा।अब आज का दौर की महत्वपूर्ण बात, भै अगर बिजली कु बिल बचौंण त, सिलौटा कु प्रयोग सर्वोपरि, एक पंथ और कई काज, जु बचाउंदा हमारा रीती रिवाज।    

Read in English:  Mixi of the mountains silbatta

“नमक और चटनी बनाऊँण कैं अगर आप अभी भी सिलौटा लेकें नि आयी त एक बार खरीद करीक ल्यावा और वैकि रशाण जरूर चाखीक देखा।अभी भी गौं मा लोग सिलौटु बनाऊँण लग्यां , और गौं सि नी त शहर मा भी मिली जांदू। रसाण जरूर चखा और औरों ते भी चखावा।अब जब आपतें पता चलीगी त अपड़ा साथ साथ औरों तें भी येकु महत्व जरूर बतावा।”

Mixi of the mountains silbatta

Byo Barat Wedding
Byo Barat Wedding

Today my post is about “Batan” which is called “silbatta” in hindi. It might be possible that some people do not know what it is so, let me give a brief history of this small kitchen utensil which is used to grind spices like other grinder and mortar and pestle.

Also Read:  Ghenja the festival of welcoming winter

With the advent of new technology and easily accessible morden handy machinery the use of silbatta has been greatly reduced.I feel happy that even now there are people who, even after leaving their village have brought their silbatta along, in order to keep the authentic taste alive especially in the himalayan pahadi cuisines. Silbatta is not only used in Uttarakhand but also in many states all around India such as Rajasthan and southern part. It is also used in many countries around the globe like Peru , Bolivia and other southern american states.

Read more wiki:  wikipedia link

Silbatta is divided into two parts: the first one is called ‘sil’ (plain stone) and second one is ‘batta’ ( a long roller). Usually silbatta is kept  in a clean corner, against a wall. For using it is laid down and generally spices (such as turmeric, cloves, various kinds of leaves) are grinded manually. In Uttarakhand importance of silbatta is a bit high than other parts. During marriage, there is an auspicious ceremony in which turmeric is grinded in silbatta which is then used as a body mask for the bride/groom to be.Silbatta is also popularly used for making split black gram(Udad daal) batter, which is used for making deep fried dishes (pakodas).Silbattas are often marked with tilak(vermillion and turmeric’s holy mark) before performing some traditional rituals. Usually, most of the authentic flavors of wedding cuisines pass through silbatta.

Different Type Of Silbatta
Different Type Of Silbatta

Silbatta has certain scientific and ayurvedic benefits. Slow grinding prevents extreme loss of oil from the food material, thereby retaining its nutritional values.The silbatta stone is also rich in mineral content.It is also a good form of exercise and will also save your penny.

Read in Garhwali:  आज का दौर की मिक्सी हमारु गों कु सिलौटु

“If you are thinking to make rock salt and chutney I would suggest you to try it on silbatta. You can easily buy it from villages and online stores. Now you know the importance of silbatta, so use it for its authentic taste and promote others too. Let me know if you have more information about silbatta”

 

घेंन्जा खावा स्वस्थ रावा और सर्दी भगावा

Glimse Of Ghenja
Glimse Of Ghenja

आज की पोस्ट मैं लिखण लग्यूं घेंन्जा त्यौहार का बारा मा।बहुत सारा पाठक इना होला जौं न यु नौं पहली बार सुनी होलु। चला क्वी बात नी मै प्रयास कोलू परिचय देणा कु।घेंन्जा हमारा यख सर्दियों मा मणाये जाण वाला त्यौहारों मा दूसरा नंबर कु त्यौहार छ(खिचड़ी संग्रांद और बसन्त पंचमी शायद नंबर १)। हर साल गढ़वाल पंचांग का हिसाब सी २७ गते पौष कु ये त्योहार तें मणाऊँदा जु की खिचड़ी संग्रांद सी लगभग २-३ दिन पहली होन्दु।जख बच्चों मा तॅ भारी उत्साह रंदु कि कब घेंन्जा आला और कब माँजी दही की कटोरी और मीठा घेंन्जा खलालि, वखि बड़ा भी खुश लैंदा मा घेंन्जा।ये त्यौहार कु नाउँ ही घेंन्जा व्यंजन का नाउँ बिटि पड़ी।अगर आप ये शब्द पहली बार सुंण लग्यां या कभी नई खायी त हल्का शब्द मा ये कि रेसिपी कु व्याख्यान अगला पहरा मा।

सर्वप्रथम आप गेहूं, चावल, मुंगरी और झंगरियाल एकठु करा और घट या चकी बीटी पिसाई करीक ल्यावा। झंगरियाल जु छा स्वास्थ्य का खातिर बहुत ही बढ़िया होंदु और पाचन भी एकदम मस्त और तुरन्त।एक झटका माँ कैल्शियम, आयरन, प्रोटीन सब मिनरल्स एक साथ मिली जांदा।वैका बाद आटा नार्मल ढंग सी रोटी बनाऊँण वाला आटा की तरह गोंदण।अगर मीठा घेंन्जा खांण त ग़ुड पानी सी आटा गोंदी सकदा नितर सादा पांणी ठीक रंदु।बाद मा रोटी कि छार बेला (जब चकला बेलन नई थै त लोग हाथन थप थप करीक गोंददा थैइ) और बड़ा निम्बू का पातका सी द्वी तरफ लगैक बर्तन फर डाला। बर्तन का निश पराल या सुखीं घास रखी सकदा ताकि घेंन्जा थरा पर फुके न राउ।अगर आप भर्यां घेंन्जा बाणोंण चांदा गाथ पिसिक भी भरी सकदा।

थोड़ा इन्तजार करा और भाप सी हल्की आंच पर पकणं देंदी रावा।५ मिनट मा सब तैयार।थोडी देर बाद भैर निकालिक थोड़ा सुखण देणा का बाद आप दही का साथ ये तें खई सकदा।यु त्यौहार सर्दियों कु छन और मोटू अनाज कु आटु होना का कारण पाचन भी सर्दियों मा अछु ह्वै जांदु। गर्मियों मा पाचन की थोड़ा मुश्किल छः।सबसी बड़ी बात मैं तें पर्सनली घेंन्जा बहुत पसंद न मीठा कम पर भार्यां हर टैम।

बड़ा बुजुर्ग बोल्दा की सर्दियों मा सब्जी कम होंदी, काम धाणी भी गर्मी की अपेक्षा काम रंदु, त घट मा आटु पिसनु कु टाइम मिली जांदू और मोटा अनाज सर्दी का बाद नयी आन्दु।येका सब कारणों सी स्वास्थ्यवर्धक घेंन्जा न जनम लीनी, फिर भी मैं रिसर्च कनु कि और भी क्या कारण रै ह्वालु ये त्यौहार मनाऊंन कु।

मैन काफी पता करि यख तख फ़ोन करीक पर पता नि चली की ये त्यौहार किलैं मनौनंदा अगर आपतें पता छन, ते मितें भी जरूर बतावा।ये त्यौहार सी संबन्धित आप मुँग क्वी कहानी हो तो शेयर करणा की महती कृपा की अपेक्षा रखुदू।क्वी विशेष जानकारी हो घेंन्जा का बारा मा मेल मैसेज कर्या जरूर तब तक तें आज्ञा चांदु आप सभी तें देर सि हि सैई पर घेंन्जा की बधाई।

लास्ट टाइम हामन पूछी की हम घेंजा के मनौन्दा , हमें जबाब मिलिगी और अब पढ़ा येका पैथर की कहानी।  जानकारी देणं वाला कु नौं गोपनीय छ अगर वी बोलला त हम नौं सार्वजानिक करि दयोला।

पुराणा जमाना मा एक महर्षि थै जौंका तीन पुत्र ह्वे। जख पहलु नंबर वालु बेटा बडू ह्वेक बहुत ज्ञानी ध्यानी पाठ पूजा करण वालु बणी। वखि दूसरा नंबर वालु बेटा एक पराक्रमी योद्धा और तीसरा नंबर वालु बेटा वाद्ययंत्र कु ज्ञाता होणा का कारण, वाद्ययंत्र बजोण वालु बणी।दूसुरु बेटा जब भी कुछ राज्य या बड़ी लड़ै जितिक औन्दु त पहलु बेटा और ऋषि बड़ा धूमधाम सि यज्ञ कु आयोजन करदा, लोगों मा उपहार भोजन बाँटदा ये सी द्वी की धन व वैभव की बृद्धि ह्वै। हर सामाजिक पारंम्परिक कार्यक्रम की जान हमेशा तिसुरू बेटा ही होंदु थै पर जब भी ज्ञान ध्यानी लोगों दगडी बात करणा कु अवसर होन्दु ऋषि महाराज अपड़ा प्रथम द्वी पुत्रों तें अगाड़ी करि देंदा थैइ।

अब धीरी धीरी तीसरा पुत्र तें यिं असमानता कु अहसास ह्वे, त वु ऋषि सी बहुत नाराज ह्वे, और कै भी पारंम्परिक कार्यों मा शामिल होणु भी बन्द कर्याली। तीसरा बेटा की अनुपस्थिति मा सारा बार त्यौहार की रौनक और हर्ष उल्लास ही ख़तम ह्वे गैनी।

ऋषि न जब यु देखि त अपड़ा तीनों बेटों तें बुलायी  और तीसरा बेटा की नाराजगी कु कारण पुछि। बेटा न बोली की मैं एक कलाकार छ मि तें धन वैभव सी क्वी मायामोह नी पर मै भी एक समय मौका चांदु जब आप मैं और द्वी भाई मेरी कला तें समर्पित ख़ुशी मनाई सकू । यु सुणिक ऋषि महाराज तें अपड़ी गलती कु अहसास ह्वे और वोन तीसरा बेटा तें वरदान देनी की पूस का महीना जब क्वी त्यौहार नई होन्दा हम तुम्हारी कला तें समर्पित, ठीक बड़ा त्यौहार मकर संग्रांद सि द्वी दिन पहली घेंन्जा नाउँ सी नयु त्यौहार मनौला। आपकी जानकारी तें मैं बतोण चांदू पूस का महीना क्वी शुभकाम नई होंदा फिर भी घेंन्जा एक विशेष त्यौहार का रूप मा मनाये जांदू कला का प्रति समर्पण ऋषि महाराज कु।

नोट :  यी तथ्य सब बुजुर्गों द्वारा मौखिक काल्पनिक घटनाओं आधारित छन और पाठकों का मनोरंजन का खातिर ये तें कहानी कु रूप दिये गये . ये कु कै वास्तविकता सी क्वी संबन्द नि छन।

Ghenja the festival of welcoming winter

Glimse Of Ghenja
Glimse Of Ghenja

Today’s post is about Ghenja.Ghenja is a festival in Garhwal which is celebrated in the poosh month(in english calendar December mid to January mid).Every-year celebration date is different, based on the Indian hindu panchang (panchang is an Indian hindu calendar where different festivals and occasions are marked).It is always 27 gate(date) poosh(Hindu calendar) and this year it was on 12th January.

The word Gheja came from dish name called Ghenja.We prepare ghenja from flour. We grind wheat, rice, corn and barnyard millet (Jhangriyal in local language)together in chakki (Mill) in order to prepare flour of ghenja . In hill the flour is called ‘Mota anaj’ and flour of mota anaj is good for health. Jhangriyal, which can be easily digested, is a rich source of calcium, protein and iron.

First mix flour with sweet water if you are making sweet Ghenja and normal water if making some stuffed one. Make a dough and leave it for 5 minutes. After 5 minutes roll the small dough like round bread. It is prepared in steam you need big lemon leaf covered both side of bread so that it will not stick with each other. One more additional use of lemon leaf is to get flavour of lemon. Now you can put bread inside steam vessel, it will take 10-15 minutes to prepare and you are ready to eat. If you do not have steam vessel just keep it in normal big vessel with some dry grass at bottom to avoid burn and put little water for making steam in vessel and I am sure it will work as this is traditional way of preparing it.

Ghenja is prepared with steam and no oil and other ingredients are required.This is the main reason that it is considered healthy food in winter. It looks like missi roti and prepared like idli in south India or dumpling in china. After 10~15 minutes in steam you can serve it alone or with yummy yogurt of Himalaya. Festival is big in its celebration and represent strong relation of farmer with family.

One thing I am still researching is about why we celebrate this festival ? Is there any ancient story behind it? Currently I can see only health benefit behind it, which can easily understood by seeing its recipe and the way we prepare this.If you have any further details about this festival or you know the story or any interesting fact about the festival please share with all.

Last time we asked that why we celebrate GHENJA and here is the story behind it.We got information from some other people and identity is Confidential and if the will allow us we will disclose the name.

There was a saint in old time who has three son. First one was educator a spiritualist, while second one warrior. Third one was music lover and he become a music instrument player.

All the time when second son won any battle the first one always celebrate it with big level which make them prosperous as well as famous in the surrounding. Third son was a charm of all festival , traditional events due to his high value of musical instruments. Whenever there is discussion about big things , saint always make his first two son as representative.

slowly slowly saint third son feel this inequality and become sad. He stoped to visit any festival and any events in the city.Due to continuous absence of his third son, all festival glory charm was disappearing slowly slowly.

When saint seen this he called all three son and asked youngest one why are you so sad?He said that I am an artist and not have firm interest in name and fame but i need opportunity time for all of you to celebrate my art of instrument and music.

Saint feel his mistake of neglecting his third son so he gave him blessing that we all will celebrate a festival named GHENJA dedicated to you are your work in the month of Poosh(English month Dec mid ~ Jan Mid) when there is no festival just two days before Makar Sankranti. This was the way Ghenja came in existence.

Note: All the facts are imaginary taught by elders, and we make it as story to keep entertaining readers. There is no relation of this story to any reality.

Happy belated Ghenja festival to all beloved 🙂

‘अक्स’ यु रफा दफा किले नि होन्दु ।

थक गयूं मी यखुलि रै रै की, क्वी चमत्कार किले नि होन्दु?
रोज सुबेर, मी बीजी त जांदू छौं, पर मी ज़िंदू किले नि होन्दु?

अपणो का दियां दर्द मा जी जी कर, अब यन आदत हुएगी मैते,
अब जब कोई बिराणू दर्द भी देन्दुं च, त दर्द किले नि होन्दु ?

मेरा भीतर अब भी कोई ज़िंदू छैं त च, पर मी अब ज़िंदू नि छौं,
वैध जी नाड़ी टटोली की सोचणा छाँ कि मी ज़िंदू किले नि होन्दु?

सरी उम्र ब्याज मा ब्याज ही देण लग्युं च मी,तेरी माया का कर्जा मा,
मी खुद खत्म हुएगी, पर तेरु यु माया कु कर्ज़ खत्म किले नि होन्दु?

यु समाज च जज ,मेरा आँसू छन गवाह,अर दिल च मेरु वकील,
मिन हार जाण यु मुकदमा ‘अक्स’, यु रफा दफा किले नि होन्दु?

लेखक : अतुल सती ‘अक्स’
Language: Garhwali

पुरानी टिहरी

कोई रहता नहीं है..अब यहाँ,

वो अकेला घर है न,

बिना दरवाजों का, वहाँ..!

 

मेरी एक पागल दोस्त थी,

वो रहती थी,

जो खुद को इस गाँव की,

रानी कहती थी।

 

वो टूटा हुआ मंदिर..है न पीछे,

वहाँ हम..खेलने जाया करते थे,

चढ़ावे के बहाने एक-दो पैसे,

माँ-बाबा से ले आया करते थे।

 

बचपन के उन अजीब खेलों में,

हर पल रूठना-मनाना होता था,

जेब में पैसे हों या न हों,

हमारा तो..रोज बाजार आना-जाना होता था।

 

एक दुकान थी वहाँ,

खिलौनों की,

सब बच्चे उसके आगे ही..खड़े रहते थे,

नए खिलौने लेने की ज़िद पे,

अक्सर वहीं पर अड़े रहते थे।

 

एक जापानी गुड़िया थी..!

भूरे बालों वाली,

जिसे हम रोज..वहाँ देखने जाते थे,

बस कुछ पल देख कर उसे,

घर वापिस चले आते थे।

 

इतने पैसे नहीं थे..किसी के पास,

कि उसे खरीद पाए,

घर ले जा कर उसे,

उस पर अपना हक़ जताए।

 

पर फिर भी मैंने,

कभी मायूशी को..

किसी के पास नहीं देखा,

खुश होने की..ज़्यादा वजह नहीं थी हमारे पास,

पर फिर भी मैंने किसी को..

कभी उदास नहीं देखा।

 

पर उस दिन..सब उदास थे,

जिस दिन कुछ लोग..शहर से आये थे,

ये गाँव तोड़ कर..नए शहर में,

बसने के सपने जब दिखाए थे।

 

अपने ही घरों से,

हमें उन्होंने बेदखल किया,

कोई बड़े साहब आये थे,

सुना है उन्होंने..

यहाँ पर डैम बनाने के लिए,

सिगनेचर कर दिया।

 

हमारी यादों का,

हमारे जज्बातों का,

हमारे इस गांव से रिस्ते का,

उन्होंने कुछ पैसों में..हिसाब लगा लिया।

 

एक मकान मिला है..नई टिहरी में,

कहते हैं खुशनसीब हो,

तुम्हें तुम्हारी..औकात से ज्यादा दिया।

 

कुछ दिनों में तोड़ देंगे,

वो ये बचे-कूचे मकान,

न तो अब वो जापानी गुड़िया होगी,

न ही होगी उसकी वो दूकान।

 

सब कुछ छीन गए वो,

हम कुछ न बचा पाए,

अब शहर के वो पक्के मकान,

सुना है..जो टूटते नहीं हैं, उनमें अब हम..क्या लेकर जाएं..?

 

लेखक : नवीन ब्लाइंडड्रीम्स

Book name: Gaadhe-Phike Rang

Language: hindi

New Tehri Town

Documentary on Tehri Dam

विडियो आभार: हमारा विडियो का करता धर्ता भैजी आशीष चमौली छन, जु की बहुत बड़ा विडियो ब्लॉगर छन। आशीष तें विडियो बाणोंण बहुत बहुत पसंद छः। अपड़ामंती आप आशीष तें गढ़वाल व कुमाऊँ सि संबन्धित क्वी भी विडियो बनाऊंण कि रिक्वेस्ट करि सकदा (विडियो ऑन डिमांड भैजी हमारू) ।

Videos credit: Mr. Ashish Chamoli a world famous Garhwali Vlogger is our video head. He love to make video as well as execute your task, yes your task, you can request him to make video regarding to anything based on Garhwal and Kumaon.

Short Documentary on Tehri(पुराणी टिहरी पर आधारित डॉक्यूमेंटरी )

 

Somewhere in kumaun

Garhwali Kumauni Vocabulary Games 1

निस द्वी फोटो पर नंबर छन पड्यां, अब बतावा यूँ नबरूँ की सामणी वाली चीज तें गढ़वाली/कुमाउँनी मा क्या क्या बोल्दा? फटाफट कमेंट या शेयर करीक ह्मवेन भी बतावा 🙂

There are numbers written in the photo shown below, let’s see who know, what we call these things in Garhwali or Kumauni(English is optional). Please write down in the comments below or if you know just share and tell others with #khuded_pravasi_garhwali #khuded_pravasi_kumauni tag 🙂

Header photo credit:  Ajay Kanyal

 

Chamoli Garhwal Nandadevi
Chamoli Garhwal Nandadevi

PC: Anoop Aswal